scorecardresearch
 
बूढ़े शेर की मेहरारू, मल्टी-कल्चरलिज़्म की नाकामी और ईरान की औरतें: तीन ताल, Ep 102

बूढ़े शेर की मेहरारू, मल्टी-कल्चरलिज़्म की नाकामी और ईरान की औरतें: तीन ताल, Ep 102

तीन ताल के 102वें एपिसोड में कमलेश 'ताऊ', पाणिनि ‘बाबा’ और कुलदीप ‘सरदार' से सुनिए:

-लेस्टर तनाव के बहाने बहुसंस्कृतिवाद की बुनियादी समस्या पर चिंतन. 'इंडिया-पाकिस्तान', 'हिन्दू-मुसलमान' क्यों हो जाता है? 

-'हिंदुत्व' किसके लिए ख़तरनाक. धर्म और अध्यात्म का फ़र्क़. बहुसंस्कृतिवाद क्यों कई बार विनाशकारी हो जाता है?

-ताऊ किस कम्युनिटी को माइनॉरिटी मानते हैं?
 ब्रिटेन को Spelling ठीक करने की सलाह.

-ईरान में हिजाब के ख़िलाफ़ हो रहे प्रदर्शन के बहाने ईरानी समाज, संस्कृति, सिनेमा और संगीत की बात. 

-क्यों ईरान में क्रांति नहीं होने वाली? बाबा ने ईरान को क्यों 'कश्मीर ऑफ द मुस्लिम वर्ल्ड' कहा? ताऊ ने क्यों कहा 'आदमी के अधिकार नहीं होते'?

-बिज़ार ख़बर में अफ़ग़ानिस्तान में पबजी बैन करने का तालिबानी फ़रमान. ताऊ और बाबा के पसंदीदा ऑनलाइन गेम्स.

-नामीबिया से भारत लाए गए चीतों के बहाने बिग कैट फैमिली पर बातचीत. क्यों चीता लाने से ताऊ नाख़ुश? 

-हिंदुस्तान में लोग क्यों चीता पालते थे? ताऊ को क्यों रॉयल बंगाल टाइगर पसन्द है?

-और आख़िर में तीन तालियों की चिट्ठियां.

प्रड्यूसर - शुभम तिवारी
साउंड मिक्सिंग - नितिन रावत

Listen and follow तीन ताल