scorecardresearch
 
पार्टी ऐनिमल लीडरान, मई और मे के लफड़े और कटखने चूहे: तीन ताल, Ep 82

पार्टी ऐनिमल लीडरान, मई और मे के लफड़े और कटखने चूहे: तीन ताल, Ep 82

तीन ताल के 82वें एपिसोड में पाणिनि ‘बाबा’ और कुलदीप ‘सरदार' से सुनिए:

-सरदार ने बाबा से ली हिंदी उधार. छोटा रिचार्ज वाला ‘तीन ताल’ जिसमें ताऊ बने श्रोता.

-मई होता है या मे? मई दिवस की ठसक. मई के बादल को बाबा ने क्यों दयनीय कहा. 

- नेता भारत में पार्टी बना सकता है, पार्टी कर क्यों नहीं सकता? हिंदी पट्टी का पाखण्ड और स्टीरियोटाइपिंग. संघर्ष की लड़ाई कैसे लड़ी जानी चाहिए?

-बिज़ार ख़बर में यूपी के मंत्री जी की चर्चा जिन्हें चूहे ने काट लिया. चूहों का मई कनेक्शन. क्या चूहे एंटी-नेशनल होते हैं? 

-चूहों की संग्रह की प्रवृत्ति. बाबा ने खुद को क्यों 'कुत्ता' कहा? चूहों और बन्दरों से कौन सी बात सीखने योग्य. और चूहों के चक्कर में कौन मारा गया.

-और आख़िर में तीन तालियों की चिट्ठियों में शिशु मंदिरों के आख्यान.

प्रड्यूसर - कुमार केशव
साउंड मिक्सिंग - अमृत रज्जी

Listen and follow तीन ताल