scorecardresearch
 
नीतीश का फ़ोटोक्रोमैटिक चश्मा, तिरंगे का आदर और जिन्ना का ईगो: तीन ताल, Ep 96

नीतीश का फ़ोटोक्रोमैटिक चश्मा, तिरंगे का आदर और जिन्ना का ईगो: तीन ताल, Ep 96

तीन ताल के 96वें एपिसोड में कमलेश 'ताऊ', पाणिनि ‘बाबा’ और कुलदीप ‘सरदार' से सुनिए:

-नीतीश कुमार के 'पलटने' पर ताऊ का गायन. बाबा ने क्यों नीतीश की तुलना घास और आमिर ख़ान से की. ताऊ ने क्यों कहा 'देश का नेता कैसा हो, नीतीश कुमार जैसा हो'

-15 अगस्त पर ताऊ और बाबा क्या डीपी बदलेंगे? तिरंगे को आदर देने और प्रेम करने का फ़र्क़. तिरंगा लगाने समय कौन सी सावधानी बरतें?

-विभाजन की तस्वीर विकृत क्यों है? पलायन और विभाजन का फ़र्क़. विभाजन के नफ़े और नुकसान. देशप्रेम की इकलौती शर्त शर्त क्या है?

-पार्टिशन कैसे एक आदत बन जाती है? पाकिस्तान के और टुकड़े होने की गारन्टी क्यों ताऊ ने दे दी. किस बात ने भारत को अविभाजित रखा और विभाजन का जिम्मेदार कौन था?

-ताऊ क्यों कम बोलने को ज़्यादा बोलना मानते हैं? ताऊ कौन सी अवस्था प्राप्त करना चाहते हैं. बाबा बोलने की किस 'बीमारी' से हैं ग्रसित? बोलने का विज्ञान और ताऊ की मेडिटेशन वाली दिक्कत.

-बिज़ार ख़बर में उस तोते की बात जो एक बुजुर्गवार पड़ोसी को देखकर सीटी बजाता है.

-और आख़िर में प्रिय तीन तालियों की किस्सागोई से भरी चिट्ठियां.

प्रड्यूसर - शुभम तिवारी
साउंड मिक्सिंग - नितिन रावत

Listen and follow तीन ताल