scorecardresearch
 
शादी के बाद की मांडवाली, बुद्धू होने के फ़ायदे और आतिशबाजों के क़िस्से: तीन ताल, Ep 106

शादी के बाद की मांडवाली, बुद्धू होने के फ़ायदे और आतिशबाजों के क़िस्से: तीन ताल, Ep 106

तीन ताल के 106वें एपिसोड में कमलेश 'ताऊ', पाणिनि ‘बाबा’ और कुलदीप ‘सरदार' से सुनिए:

-राहुल का Sine, Cos, Tan. क्या ताऊ और बाबा सनस्क्रीन लगाते हैं? 

-ताऊ के अनुसार क्यों मल्लिकार्जुन खड़गे सही कांग्रेस अध्यक्ष? खड़गे जी 84 में कहां थे? 

-कांग्रेस को ताऊ की एक सलाह. किन सलाहवीरों से कांग्रेस को दूर रहने की है ज़रूरत.

-1 हजार रुपए में क्या कुछ हो सकता है? बाबा क्यों न गिफ्ट लेते हैं, न देते हैं? ताऊ के मुताबिक दिवाली का मतलब.

-अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाईडेन की एक सलाह (जब तक 30 के नहीं हो जाते…) के बहाने 30 बरस के पहले और बाद के बदलावों पर बातचीत.

-बाइडेन की सलाह को क्यों बाबा ने व्यामिश्रित वाक्य कहा? वाजपेयी जी का 'घुटने नहीं टेकने' का अर्थ. 

-ताऊ ने किस तरह जीने की सलाह दी. शादी के बाद की मांडवाली कैसी होती है.

-30 के पहले कैसे रहें? 30 के बाद क्यों ग़लतियों का कोई स्कोप नहीं होना चाहिए?

-शादी में क्यों शुभकामना दी जाती है? प्यार करने की सही उम्र और सुख का मतलब.
 
-बुद्ध होने की पहली शर्त. जॉब सेक्युरिटी का अर्थ.

-सरदार की किस बात पर ताऊ ने कहा 'कई देश मेरे से छोटे हैं'. मैच्योर होना क्यों बेवक़ूफ़ी की बात? 

-ताऊ ने क्यों PJ चुना? चुटकुला सुनाने की बेचैनी.
दाढ़ी का एक्सेप्टेंस.

-हंसना क्यों एकाकी क्रिया नहीं है? ताऊ ने क्यों कहा 'ये बच्चे बहक गए हैं'. क्यों दुनिया 10/15 बरस के बाद बहुत ख़राब हो जाएगी.

-अद्वैत को किताबों से समझने की कोशिश क्यों बन्द होनी चाहिए? अमलतास को समझाने का सुकून. 

-बाबा ने क्यों कहा 'तीन ताल ने मुझे करप्ट कर दिया है'. नई पीढ़ी को ताऊ की सलाह.

 -जागरूकता फैलाने की नौटंकी. एनिहिलेशन ऑफ द प्लेनेट का मतलब. देश बचाने के लिए ट्वीट.

-बिज़ार ख़बर में उस बच्चे की बात जो अपनी मां की शिकायत लिखाने थाने पहुंच गया. बच्चे के साथ सरदार की सहानुभूति. 

-सरदार की आंख को बाबा ने क्यों जनवासे की ट्यूबलाइट कहा? काजल लगाने की कला. 

-अमेरिकी बच्चे. बच्चों की कंडीशनिंग. यमराज की याद.

-पटाखे छोड़े, फोड़े या दगाए जाते थे? लहसुनिया बम, सरकपाताली, मिट्टी के अनार की याद.

-लाइन से अनार जलाने का ट्रिक. मजबूत बम की पहचान. मुर्गा की आतिशबाजी.

-रसरंजन के बाद का पटाखा. बाबा को कब लगा 'गुरुत्वाकर्षण ही सब कुछ नहीं है'.

-और आख़िर में प्रिय तीन तालियों की चिट्ठियां.

प्रड्यूसर - शुभम तिवारी

साउंड मिक्सिंग - नितिन रावत

Listen and follow तीन ताल